देश का सबसे बड़ा परिवार,एक साथ रहते है 185 लोग,10 चूल्हों पर रोज बनती है 75 किलो आटे की रोटियां  - onlyentertainmentnews
Breaking News
Home / वायरल / देश का सबसे बड़ा परिवार,एक साथ रहते है 185 लोग,10 चूल्हों पर रोज बनती है 75 किलो आटे की रोटियां 

देश का सबसे बड़ा परिवार,एक साथ रहते है 185 लोग,10 चूल्हों पर रोज बनती है 75 किलो आटे की रोटियां 

मित्रों वैसे तो इस दुनिया में कई ऐसी अजीबो गरीब बाते होती रहती है, जिनको सुनने के पश्‍चात उनपर जल्‍द विश्वास नही हो पाता है, कि आखिर ऐसा भी हो सकता है, आस पास के देशों की कभी कुछ ऐसी घटनाये हमारे सामने आती है, जिन्हें सुनने के पश्‍चात काफी अजीब लगता है। इसी क्रम में आज हम एक ऐसे वाक्ये से आप लोगो को अवगत कराने वाले है। जिसके अनुसार राजस्थान के एक परिवार में कुल 185 लोग रहते है। जिनके लिये रोजाना 75 किलो आंटे की रोटियां बनायी जाती है।

दरअसल मिजोरम के जिओना चाना के परिवार के संबंध में ज़रूर सुना होगा क्योंकि इनके सयुंक्त परिवार में कुल 185 सदस्य रहते है इनका परिवार देश का सबसे बड़ा परिवार माना जाता है पर आज हम आपको अजमेर के एक ऐसे परिवार के बारे में बताने जा रहे है जिसमे 185 सदस्य साथ रहते है। ये परिवार नसीराबाद उपखंड के रामसर गांव में रहता है और सभी एक साथ मिलजुल कर बहुत खुशी से रहते है, इस परिवार के मुखिया है भंवरलाल माली और परिवार के सभी बड़े और एहम फैसले वो ही लेते है, इस परिवार के लिए रोज़ाना 75 किलो आटे की रोटियां बनाई जाती है जो की कुल 10 चूल्हों पर बनती है, इस परिवार में कुल 55 पुरुष, 55 महिलाएं और 75 बच्चे है, इस परिवार में कुल 125 मतदाता है इसलिए सरपंच के चुनाव या फिर किसी अन्य चुनाव में उनके परिवार को विशेष तौर पर तवज्जो दी जाती है।

आपकी जानकारी के लिये बता दें कि जिस परिवार की बात की जा रही है, उस परिवार के भागचंद माली ने बताया की उनके दादा सुल्तान माली थे और ये उन्ही का परिवार है, सुल्तान माली के 6 बेटे थे जिनमें से उनके पिता भवंर लाल सबसे बड़े है और उनके बाकी छोटे भाई है रामचंद्र, मोहन, छगन, बिरदीचंद और छोटू, शुरुआत से ही उनके दादा सुल्तान माली ने सबको एक साथ जोड़ कर रखा और एक संयुक्त परिवार में रहने की ही सीख दी, भागचंद माली ने आगे बताया की पहले उनका परिवार सिर्फ खेती ही करता था पर जैसे-जैसे उनका परिवार बढ़ता गया तो उन्होंने कमाई के साधन भी बढ़ाये और डेरी खोली साथ ही बिल्डिंग के मटेरियल का काम भी शुरू किया, वही परिवार के मुखिया भंवरलाल ने कहा की सयुंक्त फॅमिली में जो मज़ा है, वो कही और नहीं है, सयुंक्त परिवार में रहने से किसी भी काम का भोझ एक व्यक्ति पर नहीं पड़ता और सयुंक्त परिवार में रहने से सभी आर्थिक रूप से भी मज़बूत होते है। इस जानकारी के संबंध में आप लोगों की क्या प्रतिक्रियायें है। मित्रो अधिक रोचक बाते व लेटेस्‍ट न्‍यूज के लिये आप हमारे पेज से जुड़े और अपने दोस्तो को भी इस पेज से जुड़ने के लिये भी प्रेरित करें।

About Rinku

Leave a Reply

Your email address will not be published.