पाताल लोक में बसा एक गाँव,जमीन से 3000 फीट नीते जहाँ दुनियादारी से दूर लोग जी रहे है ऐसी ज़िन्दगी - onlyentertainmentnews
Breaking News
Home / ज़रा हटके / पाताल लोक में बसा एक गाँव,जमीन से 3000 फीट नीते जहाँ दुनियादारी से दूर लोग जी रहे है ऐसी ज़िन्दगी

पाताल लोक में बसा एक गाँव,जमीन से 3000 फीट नीते जहाँ दुनियादारी से दूर लोग जी रहे है ऐसी ज़िन्दगी

दोस्तों आज समय चाहे कितना ही क्यों न बदल गया हो . कितनी ही एडवांस टेक्नोलॉजी क्यों न आ गयी हो . लोग एक नई दुनिया का निर्माण कर रहे हो लेकिन अभी भी ही धरती पर कुछ ऐसी  चीज़े मौजूद है जिसके बारे में जान कर कोई  उस पर यकीन  नही  करेगा .आपने कभी न कभी फिल्मो या किसी से पाताल लोक के बारे में जरुर सुना होगा और अक्सर लोगो का मानना है कि ये स्साब किस्से कहानियो तक ही सीमित  रह गये है . यदि हम किसी को कहे कि पाताल लोक आज भी मौजूद है तो कोई विश्वास नही  करेगा .इसलिए आज हम आपको पाताल लोक से जुडी जानकारी देने वाले है कि ये कंहा है वंहा के लोग कैसा जीवन जीते है आदि पाताल लोक के बारे में जानने के लिये लेख को अंत  तक जरुर पढ़े .

दुनिया में एक गांव ऐसा भी है जो जमीन से 3 हजार फीट नीचे बसा हुआ है। पाताल लोक में लोग जिंदगी बिता रहे है। यह सुनने में भले ही आपको थोड़ा अजीब लगे, पर ये  बिल्कुल सच है। जी हां, अमेरिका में एक ऐसा ही गांव है। दुनियादारी से दूर यह लोग  रह रहे है। यह अनोखा गांव अमेरिका के ग्रैंड केनियन के हवासू केनियन का सुपाई है। जो जमीन से तीन हजार फ़ीट नीचे बसे होने की वजह से चर्चा में है। आइए जानते है इस गांव के बारे में।

हर साल आते है 55 लाख पर्यटक

यह अनोखा गांव गहरी खाई में बसा हुआ है। 200 लोगों की आबादी वाला अमेरिकी गांव दुनिया भर के पर्यटकों के लिए प्रसिद्ध है। पाताल लोक में बसे होने की वजह से हर साल में करीब 55 लाख लोग इस जगह पर घूमने आते हैं। यहां रहने वाले को रेड इंडियन कहते हैं।

डाकघर, कैफे और स्कूल की सुविधाएं

यह गांव कम आबादी वाला है। इसके बावजूद यहां पर सभी सुविधाएं उपलब्ध है। घर से लेकर स्कूल तक बने हुए हैं इसके अलावा आपको यहां पर चर्च, डाकघर, जनरल स्टोर और एक कैफे मिल जाएगा।

खच्चर का करते है उपयोग

यह गांव एक गहरे गड्ढे में 3000 फीट की गहराई पर स्थित है। यहां पर आने जाने के साधन काफी कम है। इस वजह से ये दुनिया से कटा हुआ है। लोग सड़कों की कमी के कारण खच्चर का उपयोग भी करते हैं। इस छोटे से गांव में घूमने वाले लोग हेलीकॉप्टर से जाते हैं।

नहीं है इंटरनेट, लिखते हैं चिट्ठियां

इस गांव में रहने वाले लोग हाओप्पी भाषा बोलते हैं। यहां पर रहने वाले लोग आज भी साधा जीवन जी रहे है। यहां लोग जीवन के लिए मक्का और फली की खेती करते हैं। इसके अलावा यहां इंटरनेट नहीं भी इस गांव के लोग चिट्ठी लिखते हैं।

About Megha

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *