सूट-बूट पहनकर चाट-गोलगप्पे की रेहड़ी लगाता है 22 साल का लड़का,खुद्दारी की कहानी ने जीता दिल - onlyentertainmentnews
Breaking News
Home / वायरल / सूट-बूट पहनकर चाट-गोलगप्पे की रेहड़ी लगाता है 22 साल का लड़का,खुद्दारी की कहानी ने जीता दिल

सूट-बूट पहनकर चाट-गोलगप्पे की रेहड़ी लगाता है 22 साल का लड़का,खुद्दारी की कहानी ने जीता दिल

मित्रों इस बात में तो कोई दो राय नही है कि गरीबी वह एक ऐसा अभिश्राप है जिसकी वजह से लोगों का जीवन- यापन सही ढंग से चल ही नही पाता है। वहीं बात चाहे आज के युग की हो या बीते हुये युगों की अपार धन की प्राप्ति हर व्यक्ति की चाहत रही है। पर सिर्फ चाहने भर से धन नही मिलता है उसके लिये मन में लगन व तड़प भी होना अतिआवश्यक है। इसी क्रम में आज हम एक ऐसे लड़के की बात करने वाले है जो सूट-बूट पहन कर चाट-गोलगप्पे की रेहड़ी लगाता है। इस 22 साल के लड़के की खुद्दारी की कहानी सुन आप लोग भी हक्के-बक्के रह जायेगें। अब खबर विस्तार से।

दरअसल इन दिनों सोशल मीडिया पर सूट पहनकर सड़क किनारे चाट, पानीपुरी, दही-भल्ले, पापड़ी बेचते दो भाइयों का वीडियो चर्चा का विषय बना हुआ है, दोनों भाई सूट पहनकर चाट-गोलगप्पे बनाते हैं और परोसते हैं, फ़ूड ब्लॉगर हैरी उप्पल ने दोनों भाइयों की कहानी शेयर की और अब ये सोशल मीडिया पर छा गई है, 22 साल का होटल मैनेजमेंट ग्रैजुएट, चंडीगढ़ के पास मोहाली में चाट और गोलगप्पे बेचता है, इनकी दुकान पर आलु टिक्की से लेकर दही भल्ले तक सबकुछ मिलता है, अगर कोई ग्रैजुएट वो भी होटल मैनेजमेंट ग्रैजुएट चाट की रेड़ी लगा ले तो घरवालों से सुनना ही पड़ता है, इस शख़्स के साथ भी यही हुआ लेकिन उसने अपना पैशन नहीं छोड़ा। यहां तक कि सुबह 6 बजे उठकर रात 12 से 1 बजे तक दोनो भाई मेहनत करते है।

आपकी जानकारी के लिये बता दें कि इन दोनो का कहना है कि हर चीज़ फ़्रेश बनाते हैं, चाट वगैरह के मसाले भी घर पर तैयार करते हैं और पापड़ी भी, आलु टिक्की बनाने के लिए लखनऊ से ख़ासतौर पर तांबे का तवा मंगाया गया और यहां देसी घी में आलु टिक्की मिलती है, 2 टिक्की की क़ीमत है 60 रुपये, इस एक बात से ही अंदाज़ा लगाया जा सकता है कि दोनों भाई भले ही अपना बिज़नेस बनाना चाहते हैं लेकिन लोगों को खिलाकर ख़ुश करना भी उनका मकसद है, बात-चीत के दौरान रेड़ी लगाने वाले शख़्स ने ये भी बताया कि उनका बेकरी का बिज़नेस करने का इरादा था लेकिन लोगों को पसंद आई तो उन्होंने टिक्की की रेड़ी लगा ली। हालाकि महामारी की वजह से दोनों भाइयों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ा, पैंडमिक में दोनों ने चाय बेची पर उम्मीद नहीं छोड़ी और आज इनके पास 3-4 लोगों की टीम है। रेड़ी डालकर, तीन साल तक मेहनत कर इन दोनों भाइयों की मेहनत रंग लाई, बात-चीत के दौरान उन्होंने बताया कि उन्होंने अपनी शॉप ले ली है, खाने-पीने की चीज़ों के अलावा इस रेड़ी पर मॉकटेल्स भी मिलती है,हंसते हुए इस शख़्स ने कहा कि दुकान की ओपनिंग पर वो अपने परिवार को बुलाएंगे। इस जानकारी के संबंध में आप लोगों की क्या प्रतिक्रियायें है। मित्रो अधिक रोचक बाते व लेटेस्‍ट न्‍यूज के लिये आप हमारे पेज से जुड़े और अपने दोस्तो को भी इस पेज से जुड़ने के लिये भी प्रेरित करें।

About Rinku

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *