ऑटो रिक्शा चलाने वाला बन गया 3 हेलीकाप्टर का मालिक, कभी पाई-पाई के लिए थे मोहताज़ आज बना करोड़ो का मालिक - onlyentertainmentnews
Breaking News
Home / वायरल / ऑटो रिक्शा चलाने वाला बन गया 3 हेलीकाप्टर का मालिक, कभी पाई-पाई के लिए थे मोहताज़ आज बना करोड़ो का मालिक

ऑटो रिक्शा चलाने वाला बन गया 3 हेलीकाप्टर का मालिक, कभी पाई-पाई के लिए थे मोहताज़ आज बना करोड़ो का मालिक

मित्रो इसमे तो कोई दो राय नही है कि इस दुनिया में कब किसकी किस्मत चमक जाये इसका कुछ नही पता, क्योंकि इस दुनिया में पैसा कमाना इतना आसान काम नही है, कभी कभी तो कुछ लोग इसके लिये बहुत प्रयास करते है, उसके पश्‍चात भी सफलता हाथ नही लगती है। यहाँ मेहनत के साथ किस्मत का भी बड़ा रोल होता हैं। हम लोगों के जीवन में कब क्‍या होने वाला है, और कब क्‍या बदलाव आने वाले है वह किसी को ज्ञात नही हो पाता है, आपने कई ऐसी बाते आस पास देखी या फिर सुनी होगी कि उसके जीवन में अचानक कुछ ऐसा बदलाव आया जिससे उसकी कायाकल्‍प हो गई। इसी क्रम में आज हम एक ऐसे ही ऑटो रिक्शा वाले के संबंध में बताने वाले है, जो आज 3 हेलीकाप्टर का मालिक है। यहां तक कि मौजूदा समय में वह करोड़ो का बिजनेस करता है। मात्र 400 रूपये में बर्तन धोने का काम करता था, आज वही रमेश महीने में कमा रहा लाखों रूपये

दरअसल आज हम जिस ऑटो रिक्शा वाले के संबंध में बात कर रहे है उनका नाम अविनाश भोसले है जिनका का जन्म सतारा जिले के तांबवे गांव में हुआ था, पर अविनाश अपने पिता की नौकरी के कारण अहमदनगर जिले के संगमनेर चले गए, पिता जल संसाधन विभाग में इंजीनियर थे। अविनाश भोसले पुणे आए, अविनाश जब रोजगार की तलाश में पुणे आये तो उसने शुरू में रिक्शा चलाने का काम करना शुरू किया, इसके माध्यम से अविनाश ने कंस्ट्रक्शन क्षेत्र के लोगों और राज्य के लोक कंस्ट्रक्शन विभाग में काम करने वाले लोगों से अनुबंध के माध्यम से परिचित हुए, इसके बाद उन्होंने रिक्शा किराए पर देना शुरू कर दिया, इस वजह से वे छोटे-छोटे सड़क कार्य करने लगे, पर 1995 में उनकी किस्मत बदल गई, जब महाराष्ट्र में गठबंधन की सरकार आई, गठबंधन सरकार ने भोंसले को लिफ्ट दी, 1995 से पहले, सभी जल संसाधन कार्य आंध्र प्रदेश के ठेकेदारों द्वारा किए जाते थे, पर एक व्यक्ति भोसले के रूप में सामने आया, पश्चिमी महाराष्ट्र में सूखे को कम करने के लिए उस समय स्थापित कृष्णा घाटी विकास निगम के अधिकांश कार्यों को मिला। उसी क्षण से, भोसले ने अपने सभी टैलेंट का उपयोग किया और उनकी ज़िन्दगी सुचारू रूप से चलने लगी, उन्होंने राज्य भर में कई जगहों पर नहरों और बांधों का कंस्ट्रक्शन किया, चूंकि इस सरकार का मुख्यालय पुणे में है, यह अविनाश भोसले के लिए कई तरह से सुविधाजनक था, उन्होंने 1999 में पूरे देश में काम करना शुरू किया, उसने जल संसाधनों के अलावा अन्य क्षेत्रों में छलांग लगा दी।पति के गुजरने के बाद बच्चो को 5 रुपये तक नहीं देते थे घरवाले,2 हजार कर्ज लेकर बनी करोड़ो की मालिक

आपकी जानकारी के लिये बता दें कि अविनाश भोसले के राजनीतिक नेताओं के साथ अच्छे संबंध थे, नेताओं के साथ-साथ उनके वरिष्ठ आईएएस अधिकारियों के साथ भी अच्छे दोस्ताना संबंध थे, वे पहले ठेकेदार के रूप में जाने जाते थे, राजनेताओं को जो कुछ भी देना चाहते थे, प्रदान करते थे, यहां तक ​​कि वह मंत्रालय के कई अधिकारियों को कॉफी पिलाया करते थे, अविनाश भोसले ने 1979 में एबीआईएल ग्रुप (अविनाश भोसले इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड) की स्थापना की, इसके जरिए उन्होंने कंस्ट्रक्शन सेक्टर में काम करना शुरू किया, पुणे में अविनाश भोसले के होटल के उद्घाटन के मौके पर तत्कालीन मुख्यमंत्री विलासराव देशमुख, शरद पवार, गोपीनाथ मुंडे, पतंगराव कदम और तत्कालीन गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे जैसे दिग्गज नेता मौजूद थे, अविनाश भोसले का बनार में एक घर है, इसे व्हाइट हाउस का नाम दिया गया है, इस सफेद बंगले का लुक अमेरिका के व्हाइट हाउस जैसा है, यहां भोसले के तीन हेलीकॉप्टर हैं, 2013 में जब शरद पवार सांगली के दौरे पर थे, तब अचानक उनकी तबीयत बिगड़ गई, उस समय उन्हें भोसले के हेलीकॉप्टर से पुणे लाया गया था, हेलीकॉप्टर बानेर में एक घर पर उतरा, अविनाश भोसले की बेटी की शादी कांग्रेस नेता और राज्य सरकार के मंत्री विश्वजीत कदम से हुई है। इस जानकारी के संबंध में आप लोगों की क्या प्रतिक्रियायें है। मित्रो अधिक रोचक बाते व लेटेस्‍ट न्‍यूज के लिये आप हमारे पेज से जुड़े और अपने दोस्तो को भी इस पेज से जुड़ने के लिये भी प्रेरित करें।

About Rinku

Leave a Reply

Your email address will not be published.