65 साल से इस सांप को मान लिया था विलुप्त,लेकिन अचानक घने जंगलों से निकली इन सापों की फौज - onlyentertainmentnews
Breaking News
Home / वायरल / 65 साल से इस सांप को मान लिया था विलुप्त,लेकिन अचानक घने जंगलों से निकली इन सापों की फौज

65 साल से इस सांप को मान लिया था विलुप्त,लेकिन अचानक घने जंगलों से निकली इन सापों की फौज

मित्रों इस दुनिया में कई ऐसी अजीबो गरीब घटनायें घटित होती रहती है, जिनके संबंध में सोशल मीडिया के माध्यम से हमे समय समय पर जानकारी मिलती रहती है। ऐसे में अक्सर आप लोगों ने कई तरह के जीव इस दुनिया में देखें होगें, पर कुछ ऐसे भी जीव थें जो पूरी तरह से विलुप्त हो चुके है। हालाकि कुछ जीव ऐसे भी है, जो आस्तित्व में है, पर आज हम एक ऐसे सांप की बात करने वाले है, जिसे 60 साल पहले दुनिया ने विलुप्त मान लिया था, वो घने जंगलों में तैयार कर रहा था सांपों की फौज, यही वो सांप है जिसके सिर पर होता है कुछ ऐसा जिसे देख आप लोग भी हो जायेगें हैरान। अब खबर विस्तार से।दुनिया के टॉप 10 खतरनाक जानवर जिनको देखने में नसीब लगता है 

दरअसल इस बात में तो कोई दो राय नही कि जगलों में रहने वाले अनेक जीवों, और सरीसृपों की प्रजातियां या तो विलुप्त हो गई हैं या फिर विलुप्त होने की कगार पर हैं। वहीं कई संगठन लगातार दुर्लभ जीवों को बचाने में जुटे हुए हैं। इसी बीच अमेरिका के अलबामा स्टेट में एक 60 साल पहले विलुप्त हुआ सांप फिर देखा गया है। अमेरिका के अलबामा के जंगलों में इंडिगो स्नेक एक दुर्लभ प्रजाति का सांप है। जिसे धरती से विलुप्त समझा जा रहा था। लेकिन पिछले हफ्ते कोनकुह नेशनल फॉरेस्ट में 60 साल में यह सांप दूसरी बार दिखा है। अलबामा डिपार्टमेंट ऑफ कंजर्वेशन एंड नेचुरल रिसोर्सेज के एक बयान में कहा कि, हम इस सांप की फिर से घर वापसी कराने में सफल रहे हैं। 60 से अधिक वर्षों में यह पूर्वी इंडिगो सांप दूसरी बार अलबामा में दिखा है। अलबामा डिपार्टमेंट ऑफ कंजर्वेशन एंड नेचुरल रिसोर्सेज के अनुसार, 1950 के दशक में बड़े पैमाने पर प्राकृतवास नुकसान के कारण वे राज्य में विलुप्त हो गए, लेकिन इन्हें दोबारा देखे जाने की सूचना मिलने के बाद वन विभाग में खुशी है। उनके सांपों के बचाने के प्रयास काम आ रहे हैं।जंग लगे टीन के डब्बे में फंस गयी बड़ी छिपकली, देखा तो पता चला कि

आपकी जानकारी के लिये बता दें कि रोमांचक खोज ईस्टर्न इंडिगो प्रोजेक्ट का एक परिणाम है, जो 2006 में अलबामा में अपनी मूल भूमि में घटती प्रजातियों के लिए शुरू किया गया था। ये सांप बिषैला नहीं होता है, लेकिन ये बिषैले सापों को खाता है। इंडिगो सांप एक स्वस्थ और संतुलित पारिस्थितिकी तंत्र को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। पूर्वी इंडिगो सांप पहले फ्लोरिडा, जॉर्जिया, अलबामा और मिसिसिपी में बड़ी तादात में पाए जाते थे। लेकिन प्राकृतवास नुकसान के कारण 1950 के दशक तक अलबामा में प्रजातियां काफी हद तक विलुप्त हो गईं। इसका पारिस्थितिकी तंत्र में बाकी प्रजातियों पर बहुत असर पड़ा। 2006 में अलबामा संरक्षणवादियों की टीम ने राज्य में पूर्वी नील सांप को फिर से लाने के लिए एक परियोजना की शुरुआत की। बड़े पैमाने पर सांपो को पकड़ कर उनका प्रजनन शुरू कर दिया फिर 2010 में इन्हें कोनकुह राष्ट्रीय वन में छोड़ा गया। जिसके बाद अब ये सांप फिर से दिखने लगे हैं। जीवविज्ञानी जिम गॉडविन ने कहा कि इस सांप का मिलना संकेत है कि जिन सांपों को छोड़ा गया था वो अब जंगली सांपो की तरह रह रहे हैं और परिवार भी बढ़ा रहे हैं। वे धीरे धीरे अपना कुनबा बढ़ाने में सफल हो रहे हैं। इस जानकारी के संबंध में आप लोगों की क्या प्रतिक्रियायें है। मित्रो अधिक रोचक बाते व लेटेस्‍ट न्‍यूज के लिये आप हमारे पेज से जुड़े और अपने दोस्तो को भी इस पेज से जुड़ने के लिये भी प्रेरित करें।

About Rinku

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *