बिजली ठीक करने वाले पिता ने बेटी को पढ़ने के लिए बेचीं जमींन, SDM की नौकरी छोड़ UPSC पास करके बेटी बनी आईएस ऑफिसर - onlyentertainmentnews
Breaking News
Home / ज़रा हटके / बिजली ठीक करने वाले पिता ने बेटी को पढ़ने के लिए बेचीं जमींन, SDM की नौकरी छोड़ UPSC पास करके बेटी बनी आईएस ऑफिसर

बिजली ठीक करने वाले पिता ने बेटी को पढ़ने के लिए बेचीं जमींन, SDM की नौकरी छोड़ UPSC पास करके बेटी बनी आईएस ऑफिसर


मित्रों जैसा की आप लोग अवगत है कि हमारे जीवन में शिक्षा का महत्व बहुत अधिक है क्योंकि शिक्षा ही एक है जो कि मानव को दनाव बनने से बचाती है क्योंकि आपको तो पता ही है कि अगर आज के समय में शिक्षा का अभाव रहा तो आगे का जीवन बहुत ही कष्टमई तरीके से विताना पड़ता है। इसी क्रम में आज हम एक ऐसे इलेक्ट्रिशियन पिता के संबंध में बात करने वाले है जिन्होंने जमीन बेच कर पढ़ाया अपनी बेटी को। बेटी ने SDM की नौकरी छोड़ UPSC पासा किया और पूरे किये अपने सपने। खबर विस्तार से जानने के लिये पोस्ट के अंत तक बने रहे है।

आपको बता दें कि ग्वालियर की उर्वशी सेंगर ने संघ लोक सेवा आयोग की परीक्षा पास की है। इन्हें 2020 की परीक्षा में 532 रैंक आई है। इस रैंक के आधार पर उर्वशी को इंडियन ऑडिट एंड अकाउंट सर्विसेज या भारतीय राजस्व सेवा काडर मिलने की संभावना है। उर्वशी बेहद सामान्य परिवार से आती हैं। पिता ग्वालियर में ही इलेक्ट्रिशियन हैं। बच्चों की पढ़ाई-लिखाई के लिए पहले ही जमीन बेच दी थी। उर्वशी की पढ़ाई स्कॉलरशिप के पैसों से कॉलेज तक हुई। इसके बाद इन्हें यूपीएससी की तैयारी करने थी तो घर पर ही तैयारी शुरू कर दी। मगर, दो बार प्री-लिम्स एग्जाम नहीं निकला। होम स्टडी से दो प्रयास में फेल होने के बाद उर्वशी दिल्ली आ गईं। यहां पढ़ने के लिए कोचिंग ज्वाइन की, लेकिन फीस भरने के लिए पैसे नहीं थे। ऐसे में दूसरी कोचिंग में खुद एक काम भी पकड़ लिया। दिन में उस कोचिंग का काम करती थीं और शाम को अपनी कोचिंग में जाकर क्लास करती थीं।

आपकी जानकारी के लिये बता दें कि उर्वशी के पास रहने के लिए कमरे के पैसे भी नहीं थे। ऐसे में एक रिश्तेदार के यहां रहना शुरू किया। उनके घर पर रहकर ही पढाई की और यूपीएससी की परीक्षा पास कर ली। इस संबंध में उर्वशी बताती हैं कि यूपीएससी की तैयारी करने के दौरान उन्हें यूपीपीएससी की परीक्षा में 54वीं रैंक आ गई थी। एसडीएम का पद मिला था, लेकिन उस आर्थिक तंगी के बावजूद उन्होंने ज्वाइन नहीं किया। उनके मन में बस ये था कि मुझे यूपीएससी तो यूपीएससी ही करना है। अपनी योग्यता को बरखने के लिए यूपीपीएससी की परीक्षा दे दी थी। इस परीक्षा के रिजल्ट ने उनका मनोबल बढ़ाया और फिर वह यूपीएससी भी पास की। इनकी प्रारंभिक पढ़ाई-लिखाई ग्वालियर के बादलगढ़ स्थित सरस्वती शिशु मंदिर से हुई है। फिर 2015 में बीएससी और भूगोल से पीजी पास किया है। इस जानकारी के संबंध में आप लोगों की क्या प्रतिक्रियायें है। मित्रो अधिक रोचक बाते व लेटेस्टं न्यूईज के लिये आप हमारे पेज से जुड़े और अपने दोस्तो को भी इस पेज से जुड़ने के लिये भी प्रेरित करें।

About Megha

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *