छोटे से गैरेज से पिता ने शुरू किया था बिजनस,बेटी ने बना दिया 3000 करोड़ का साम्राज्य - onlyentertainmentnews
Breaking News
Home / विशेष / छोटे से गैरेज से पिता ने शुरू किया था बिजनस,बेटी ने बना दिया 3000 करोड़ का साम्राज्य

छोटे से गैरेज से पिता ने शुरू किया था बिजनस,बेटी ने बना दिया 3000 करोड़ का साम्राज्य

मित्रों इसमे कोई दो राय नही है कि दुनिया में हर एक व्यक्ति की सोच सिर्फ यही रहती है, कि वह परीश्रम कर ढेर सा धन अर्जित कर अपना पूरा जीवन सुखमय व्‍यतीत करें। वैसे पैसो के संबंध में ये कहा जाता हैं कि ये कब किसके पास कितनी मात्रा में आएगा ये सब उसके परीश्रम पर निर्भर करता है। क्योंकि परीश्रम ही एक ऐसी चाबी है जो भाग्य का ताला खोल सकती है। इसी क्रम में आज हम एक ऐसे शख्स के संबंध में बताने वाले है, जिन्होंने गैरेज से की थी एक छोटी सी शुरूवात, बेटी ने उसे बना दिया 3 हजार करोड़ का साम्राज्य। आइए जाने पिता-पुत्री की इस सफलता की कहानी। जिसे सुन आप लोग भी सोच में पड़ जायेगे।मात्र 400 रूपये में बर्तन धोने का काम करता था, आज वही रमेश महीने में कमा रहा लाखों रूपये

दरअसल आज हम जिस लड़की की बात कर रहे है, उसका नाम समीरा है। मेडिकल कॉलेज से स्नातक होने के बाद, समीरा के पिता डॉ सुशील शाह ने देश में मौजूदा स्वास्थ्य सेवाओं को कुछ अलग करने के लिए प्रेरित किया, बाद में संयुक्त राज्य अमेरिका के रास्ते में, उन्होंने वहां विभिन्न तरीकों और प्रक्रियाओं को समझा, और फिर लौट आए, उन्होंने ‘सुशील शाह प्रयोगशाला’ नामक पैथोलॉजी प्रयोगशाला की आधारशिला रखी, बहुत कम पूंजी और संसाधनों की कमी के साथ, उन्होंने अपने गैरेज से काम करना शुरू कर दिया और रसोई को क्लिनिक के रूप में इस्तेमाल किया। डॉ, शाह उस समय के पहले डॉक्टर थे जिन्होंने स्वास्थ्य की दुनिया में प्रयोगशाला तकनीक को उतारा, डॉ, शाह हमेशा अपने व्यवसाय के साथ-साथ अपनी बेटी समीरा को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने के प्रति जागरूक रहते थे, समीर आगे की पढ़ाई के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका में बस गईं, और टेक्सास विश्वविद्यालय से स्नातक होने के बाद, उन्होंने बहुराष्ट्रीय फर्म गोल्डमैन फाउंडेशन के साथ अपना करियर शुरू किया। कुछ साल काम करने के बाद समीरा 2001 में भारत लौट आईं, हालाँकि, उस समय देश में सूचना प्रौद्योगिकी और प्रौद्योगिकी आदि की उपस्थिति बहुत कम थी, डॉ, शाह बेशक कुछ नया कर रहे थे लेकिन उनके तरीके पुराने थे45 आदमियों के बीच अकेली महिला कुली हैं संध्या, इज्जत से कमाती हैं, बच्चों को बनाना चाहती हैं अफसर

आपकी जानकारी के लिये बता दें कि दक्षिण मुंबई में 1500 वर्ग फुट की प्रयोगशाला अस्थायी आधार पर शुरू की गई थी, हालाँकि, यह क्षेत्र की एकमात्र प्रयोगशाला थी और लोगों के बीच विश्वास स्थापित किया,वह चाहते थे कि डॉ, शाह पूरे भारत में अपनी प्रयोगशालाओं की एक श्रृंखला स्थापित करें, लेकिन उन्हें जमीनी स्तर पर इसका विस्तार करने का विचार समझ में नहीं आया, अमीरा ने अपने पिता के सपने को पूरा करने और डिजिटल संचार के साधनों का उपयोग करने की पहल की, ‘डॉ, सुशील शाह प्रयोगशाला का नाम बदलकर ‘मेट्रोपोलिस हेल्थ केयर’ कर दिया गया, धीरे-धीरे भारत भर में अपनी प्रयोगशालाओं के विस्तार की एक श्रृंखला का निर्माण कर रहा है, कुछ ही वर्षों में कंपनी ने लोगों का विश्वास जीत लिया था, आज, मेट्रोपोलिस हेल्थकेयर व्यवसाय 25 से अधिक देशों में फैला हुआ है, इतना ही नहीं, कंपनी दुनिया की सबसे बड़ी पैथोलॉजी लैब में से एक है, जिसमें 4,000 से अधिक कर्मचारी कार्यरत हैं, अपने पिता द्वारा शुरू की गई एक लैब को 3,000 करोड़ रुपये के साम्राज्य में बदलने वाली अमीरा आज दुनिया की सबसे प्रभावशाली महिला उद्यमियों में गिनी जाती हैं। इस जानकारी के संबंध में आप लोगों की क्या प्रतिक्रियायें है। मित्रो अधिक रोचक बाते व लेटेस्‍ट न्‍यूज के लिये आप हमारे पेज से जुड़े और अपने दोस्तो को भी इस पेज से जुड़ने के लिये भी प्रेरित करें।

About Rinku

Leave a Reply

Your email address will not be published.