चमक गयी गरीब की किस्मत छुट्टा कराने के लिए मजबूरन खरीदी लॉटरी,पल में बन गया करोड़ो का मालिक - onlyentertainmentnews
Breaking News
Home / ताज़ा खबरें / चमक गयी गरीब की किस्मत छुट्टा कराने के लिए मजबूरन खरीदी लॉटरी,पल में बन गया करोड़ो का मालिक

चमक गयी गरीब की किस्मत छुट्टा कराने के लिए मजबूरन खरीदी लॉटरी,पल में बन गया करोड़ो का मालिक

दोस्तों सभी लोगो के जीवन में अजीबो -गरीब घटनाये होती है जैसे किस्मत राजा को रंक और रंक को राजा बना सकती है इसी तरह से सड़क पर चलने वाला व्यक्ति अचानक से राजसिघासन पर पहुच जाता है किस्मत का खेल भी बहुत ही अजीब होता कुछ लोग सालो से मेहनत करते है फिर भी वह चंद  रुपये ही कमा पाते है और कुछ लोग बिना मेहनत के सब कुछ पा जाते है और घर पर बैठे-बैठे ही मालामाल हो जाते है बात यह है कि किस्मत को बदलते ज्यादा समय नही लगता है .आज हम आपको एक ऐसे ही मामले के बारे में बताने वाले है जिसमे एक शख्स की मजबूरी ने  उसे करोड़ो का मालिक बना डाला . कैसे इस शख्स की किस्मत इस पर मेहरबान हुयी जानने के लिए खबर को अंत तक जरुर पढ़े .

छुट्टा कराने के लिए मजबूरन खरीदी लॉटरी, जीत लिया 12 करोड़ रु का इनाम

मज़बूरी में खरीदी लाटरी

दोस्तों किस्मत बदलने वाला आप्शन है लाटरी कई सारे लोग सालो साल लाटरी को खरीदते है लेकिन कुछ की तक़दीर बदलती है कुछ की नही लेकिन कुछ घटनाये ऐसी भी देखने को मिलती है लेकिन कुछ अपनी पसंद से नही बल्कि मज़बूरी में खरीदते है और बहुत ही बड़ा इनाम जीत लेते है इसी तरह से एक घटना केरल से हमारे सामने निकल कर आयी थी यह कहानी केरल राज्य के कोट्टायम रहने वाले संदानंद के साथ एक ऐसी ही घटना घटी थी जिसे वे अपने जीवन में नही भूल पाये कुछ ऐसा हुआ था कि संदानंद को 500 रुपये का छुट्टा कराना था लेकिन उनके पास और छुट्टा रुपये नही होने के कारण उन्होंने मजबूरन में एक लाटरी का टिकट ख़रीदा और इसी टिकट के कारण उनकी किस्मत ही बदल गयी क्योकि वे मज़बूरी में आ करके इस ख़रीदे गए टिकट से करोडपति बन गए थे

जीते 10 करो़ड़ रु

दोस्तों हाल ही में  एक खबर और निकल कर हमारे सामने आई है क्योकि यह मामला तमिलनाडु का है क्योकि तमिलनाडु के दो लोग 10 करोड़ रु का इनाम जीते थे। जिनका नाम है  डॉ एम प्रदीप कुमार और उनके रिश्तेदार एन रामेसन, जो तिरुवनंतपुरम अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर किसी को रिसीव करने गए थे, मगर वहीं परिसर से किसी कारण वश उन्होंने लॉटरी का टिकट खरीदा। और दोनों लोग विदेश से  ही आए थे रामेसन के साले को लेने के लिए वह एयरपोर्ट पर गए थे। प्रदीप के मुताबिक सबसे पहले वे जीत के पैसों में से अपना कुछ कर्ज अदा करना चाहते हैं।

जीते पूरे 12 करोड़ रु

दोस्तों और एक लाटरी लगने वाला मामला हमारे सामने जल्द ही नजर में आ गया है क्योकि जैकपॉट में सदानंद पूरे 12 करोड़ रु का इनाम जीते थे। हालांकि सदानंद ने पहले भी कई बार लॉटरी खरीदी मगर कभी भी उनकी किस्मत ने उनका साथ नहीं दिया। 12 करोड़ रु में से एक हिस्सा टैक्स का काटा गया और बाकी 7.39 करोड़ रु सदानंद को मिले थे ।

खरीदनी थी सब्जी

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि सदानंद सब्जी खरीदने के लिए घर से निकले थे। उनके पास 500 रुपये का एक नोट था। वे उसे छुट्टे कराने के लिहाज से एक लॉटरी टिकट खरीदने पर मजबूर हो गए। छुट्टे पैसों से उन्होंने सब्जी खरीदी और घर आ गए। कुछ घंटे बाद ही उनकी किस्मत तब बदल गयी, जब उन्हें पता चला कि वे जैकपॉट जीते हैं और वह इतना खुश हो गए जिसकी ख़ुशी वह ब्याह नही कर पा रहे है

कितनी रकम हाथ में आयी

मित्रो और आप सब को बताते है कि प्रदीम और रामेसन की लॉटरी ड्रॉ का नतीजा 22 मई को सामने आ गया था। दोनों लोग अक्सर करके लाटरी से अपनी किस्मत अजमाते रहते थे लेकिन कभी उनको बड़ा इनाम हाथ में नही लगा। अकसर वे छोटी-छोटी इनाम जीतते थे। बता दें कि उनको कभी 10 करोड़ रुपये अपने जीवन में नही मिले थे लेकिन 10 करोड़ रुपये का इनाम जीता था, टैक्स को निकलकर  कुल 6.16 करोड़ रुपये दिए गए। दोनों विजेताओं ने टिकट पर संयुक्त तौर पर क्लेम किया। इसलिए विभाग जीतने वाली राशि को उनके संयुक्त स्वामित्व वाले बैंक खाते में जमा किया।क्योकि विजेता अन्य राज्य से थे, इसलिए उन्हें नोटरी सत्यापित पहचान प्रमाण भी पेश करने की जरूरत थी। एक और खास बात है कि इस टिकट को वलियाथुरा के रहने वाले रंगन-जसींथा दंपति ने बेचा था जो आम तौर पर हवाई अड्डे पर टिकट बेचते हैं। ये रात में टिकट बेचते हैं, जब अंतरराष्ट्रीय उड़ान सेवाएं ज्यादा चलती हैं।

इसको और आगे जानने के लिए हमारी इस पोस्ट के साथ हमेशा के लिए बने रहे क्योकि हम इसी तरह की खबरों को आप सब के सामने प्रस्तुत करते रहे गे और हमरी इस पोस्ट को आप भी पढ़े और अपने दोस्तों को इस पोस्ट को पढने के लिए प्रेरित करे धन्यवाद

About savita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *