चिलमिलाती गर्मी से मिला छुटकारा,AC को मात देने आ गया ये अनोखा कूलर,बिजली का खर्चा ना के बराबर - onlyentertainmentnews
Breaking News
Home / विशेष / चिलमिलाती गर्मी से मिला छुटकारा,AC को मात देने आ गया ये अनोखा कूलर,बिजली का खर्चा ना के बराबर

चिलमिलाती गर्मी से मिला छुटकारा,AC को मात देने आ गया ये अनोखा कूलर,बिजली का खर्चा ना के बराबर

मित्रों वैसे तो इस दुनिया में सबसे अधिक महत्‍व प्राकृति का है, जो समय समय पर मौसम में बदलाव लाती रहती है, जैसा की सभी लोग अवगत ही होगें कि मौसम हर समय एक जैसा नही रहता है, क्‍योंकि सर्दियो के मौसम के बाद अब गर्मियों की शुरूवात हो चुकी है, अक्‍सर देखा जाता रहा है, कि गर्मियां आते ही लोग कूलर, पंखा, एसी, आदि आधुनिक चीजों को व्‍यवस्थित करने लगता है, पर आज हम एक ऐसे एक शख्स के संबंध में बात करने वाले है जिन्होंने गर्मी से छुटकारा पाने के लिये बना दिया एक अनोखा कूलर, जिसको लेकर सोशल मीडिया पर मौजूदा समय में काफी खबरे चर्चा में है।

आपको बता दें कि बढ़ती गर्मी हमारे लिए हमेशा से ही एक बड़ी समस्या रही है। लोग इस गर्मी से खुद को बचने के लिए और अपने घरों को ठंडा रखने के लिए ना जाने क्या क्या करते है। आमतोर पर आज कल AC का प्रचलन बहुत ज्यादा होता जा रहा है पर यह बिजली की तगड़ी खपत करता है। गर्मियों में ऐसी दिक़्क़तों से अक्सर लोग गुज़रते है मगर आपकी ये परेशानी अब शायद दूर हो सकती है। इन समस्याओं के चलते दिल्ली के एक आर्किटेक जिनका नाम मोनिश सिरिपिरायु है ने एक ऐसे कूलिंग सिस्टम की उत्त्पत्ति की है जो AC पर हमारी निर्भरता को कम कर सकता है।

आपकी जानकारी के लिये बता दें कि दिल्ली के रहने वाले आर्किटेक्चर फर्म एंट स्टूडियो के संस्थापक मोनिश ने टेराकोटा और पानी की मदद से ‘कूलएंट’ की खोज की है। यह कूलिंग प्रणाली काफी समय से भारत के साथ साथ विदेशो में भी अपनाई जा चुकी है पर मोनिश ने इसे एक नया रूप दिया है। आपको बता दे की मोनिश ने इसे मिटटी के घड़े से बनाया है जो किसी भी बुल्डिंग के रूम को काफी हद्द तक ठंडा रख सकता है। ये पूरी तरह एक एक जैसे काम नहीं करेगा पर इससे काफी हद तक राहत मिल सकती है। एक इंटरव्यू के दौरान जब इस कूलर की काम करने की प्रक्रिया के बारे में पूछा गया तो मोनिश ने बताया कि जिस प्रकार मिट्टी के बर्तन में पानी ठंडा रहता है उसी वाष्पीकरण की विधि इसमें इस्तेमाल की गयी है लेकिन उलटे क्रम में, इसमें हम इन बर्तनों के ऊपर पानी डालते हैं। जब सभी बर्तन पानी से भीग जाते है तो उनसे गुजरने वाली हवा हम तक ठंडी होकर पहुंचती है। इस जानकारी के संबंध में आप लोगों की क्या प्रतिक्रियायें है। मित्रो अधिक रोचक बाते व लेटेस्ट न्यूज के लिये आप हमारे पेज से जुड़े और अपने दोस्तो को भी इस पेज से जुड़ने के लिये भी प्रेरित करें।

About Rinku

Leave a Reply

Your email address will not be published.