उत्तर प्रदेश के पूर्व CM मुलायम सिंह यादव का हुआ निधन, इस गंभीर बिमारी से थे पीड़ित - onlyentertainmentnews
Breaking News
Home / ताज़ा खबरें / उत्तर प्रदेश के पूर्व CM मुलायम सिंह यादव का हुआ निधन, इस गंभीर बिमारी से थे पीड़ित

उत्तर प्रदेश के पूर्व CM मुलायम सिंह यादव का हुआ निधन, इस गंभीर बिमारी से थे पीड़ित

दोस्तों पिछले कुछ दिनों से मुलायम सिंह यादव  दिल्ली से सटे गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में  इलाज के लिए भर्ती थे  लेकिन उनके स्वास्थ्य में कोई सुधार नहीं आया .सभी लोग मुलायम सिंह यादव के जल्दी ठीक होने के लिए पूजा -पाठ कर रहे थे  लेकिन उसका भी कोई असर नज़र नहीं आया और मुलायम सिंह यादव को लेकर एक दुखद खबर सामने आई है खबर के मुताबिक मुलायम सिंह यादव का नि धन  हो गया है .इस खबर से राजनीति दुनिया में शौक की लहर छाई हुयी है .इस दुःख भरी घड़ी में सब उनके परिवार के साथ है हर कोई मुलायम सिंह यादव के नि धन पर शौक जता रहा है और उनकी आत्मा की शन्ति के लिए भगवान से दुआ मांग रहा है .ये सब कब और कैसे हुआ  पूरी खबर जानने के लिए खबर को अंत तक जरुर पढ़े .

बताया जा रहा है कि मुलायम सिंह यादव यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन (यूटीआई) (Urinary tract infection UTI) से पीड़ित थे। उन्हें सांस लेने में तकलीफ और किडनी में दिक्कत (Kidney problem) के बाद आईसीयू में रेफर किया गया था।

करीब आठ दिन वेंटिलेटर सपोर्ट पर रखे जाने के बाद भी उनकी हालत में कोई सुधार नहीं हुआ और आज यानी सोमवार को उन्होंने अंतिम सांस ली। अस्पताल में मुलायम सिंह (82) की निगरानी खुद मेदांता समूह के निदेशक डॉ. नरेश त्रेहन कर रहे थे। हालांकि हालत बिगड़ने के बाद उनका जीवन नहीं बचाया जा सका और मुलायम ने सुबह 8.16 पर आखिरी सांस ली। जब से मुलायम सिंह यादव अस्‍पताल में भर्ती हुए थे तब से लगातार उनके समर्थक और प्रशंसक उनकी बेहतर सेहत के लिए पूजा-प्रार्थना कर रहे थे

मुलायम को कुछ दिन पहले रूटीन चेकअप के लिए मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया गया था। रविवार को उन्होंने सांस फूलने की शिकायत की थी जिसके बाद डॉक्टरों ने उनके ऑक्सीजन लेवल में गिरावट देखी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सहित देश के कई बड़े नेता लगातार उनकी हालत का जायजा ले रहे थे

बताया जा रहा है कि मुलायम सिंग यादव को पेशाब से जुड़ी समस्या यूटीआई और किडनी की समस्या जो गई थी। उम्र बढ़ने के साथ यह समस्या किसी को भी हो सकती है। बढ़ती उम्र के साथ इसका जोखिम बढ़ जाता है. वास्तव में बुजुर्गों को इसका अधिक खतरा होता है क्योंकि उनके अंग ज्यादा संवेदनशील होते हैं और बढ़ती उम्र में ब्लैडर और पेल्विक हिस्से की मांसपेशियां कमजोर होने लगती हैं। जाहिर है इससे किडनी के कामकाज पर बुरा असर पड़ता है।

किडनी की बीमारी क्या है

किडनी का प्रमुख काम खून से अतिरिक्त फ्लूइड और वेस्ट मटेरियल निकालने का होता है। जो कि पेशाब के सहारे शरीर से बाहर निकल जाते हैं। लेकिन जब किडनी खराब होने लगती है, तो शरीर में फ्लूइड, इलेक्ट्रोलाइट्स और वेस्ट बढ़ने लगते हैं। जिसके कारण धीरे-धीरे किडनी डैमेज हो जाती है

किडनी खराब होने के लक्षण क्या हैं

किडनी की बीमारी की शुरुआत में लक्षण दिखने थोड़े मुश्किल होते हैं। लेकिन धीरे-धीरे शरीर जी मिचलाना, उल्टी, भूख कम होना, कम या ज्यादा पेशाब आना, नींद ना आना, मसल्स क्रैम्प, पैर और टखनों में सूजन, ड्राई स्किन, हाई ब्लड प्रेशर, सांस फूलने जैसे संकेत देने लगता है।

यूटीआई समस्या क्या है?

शरीर की मूत्र प्रणाली के किसी भी हिस्से में संक्रमण होने को यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन कहा जाता है। मूत्र प्रणाली में किडनी, यूरेटर, ब्लैडर और यूरेथ्रा शामिल होते है। यूटीआई की समस्या होने पर किडनी डैमेज, बार-बार इंफेक्शन होना, यूरेथ्रा नली का छोटा होना जैसी खतरनाक समस्या हो सकती हैं। यूटीआई के अधिकतर मामलों में ब्लैडर और यूरेथ्रा का इंफेक्शन बड़ा कारण होता है। यह रोग बड़े-बुजुर्गों या महिलाओं को होने का खतरा ज्यादा होता है।

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *