डेढ़ करोड़ रुपए से भरा बैग 9 महीनों से धूल फांकता रहा पर किसी को नहीं थी भनक, जब देखा तो ... - onlyentertainmentnews
Breaking News
Home / वायरल / डेढ़ करोड़ रुपए से भरा बैग 9 महीनों से धूल फांकता रहा पर किसी को नहीं थी भनक, जब देखा तो …

डेढ़ करोड़ रुपए से भरा बैग 9 महीनों से धूल फांकता रहा पर किसी को नहीं थी भनक, जब देखा तो …

मित्रों अक्सर देखा जाता रहा है कि हमारी इस दुनिया में कई ऐसी अजीबो गरीब बाते होती रहती है, जिन्हे सुनने के पश्‍चात जल्‍द उनपर विश्वास नही हो पाता है, कि आखिर यह भी हो सकता है। हालाकि आस पास के देशों की कभी कुछ ऐसी घटनाये हमारे सामने आती है, जिन्हें सुनने के पश्‍चात कई बार लोग गहन सोच में पड़ जाते है। आज हम एक ऐसी ही खबर से अवगत कराने वाले है, जिसके अनुसार लावारिस जगह पर एक बक्से में डेढ़ करोड़ रूपये का कैश मिला, चौका-ने वाली बात तो ये है कि 9 महीने तक इस पर किसी की नजर ही नही पड़ी, भला ऐसा कैसे हो सकता है? खबर विस्तार से जानने के लिये इस पोस्ट के अंत तक बने रहे हैमहिलायों के लिए सरकार का बड़ा तोहफा, अकाउंट में आयेंगे 2.2 लाख रुपये कैश, जानिये पूरी सच्चाई

आपको बता दें कि जिस घटना की हम बात कर रहे है, वो न्यूयॉर्क की है जहां पर एक प्रोफेसर के दफ्तर में डेढ़ करोड़ रुपए से भरा बैग 9 महीनों से धूल फांक रहा था, पर ना तो उसे और ना ही किसी स्टाफ को इसकी भनक थी। दरअसल प्रोफेसर विनोद मेनन अपने कॉलेज में भौतिकी और गणित पढ़ाते थे। उनका कॉलेज पिछले 9 माह से बंद था। क्योंकि महामारी के कारण सारी पढ़ाई ऑनलाइन ही कराई जा रही थी। इसलिए जिसने ये बक्सा भेजा था वो उनके कॉलेज के दफ्तर में ही पड़ा था। इस बक्से में डेढ़ करोड़ कैश था। लेकिन किसी ने इसे खोला नहीं तो पता नहीं चल सका। 9 महीने बाद जब कॉलेज खुला तो प्रोफेसर ने अपने खत और बाहर से आए पार्सल खोले। जैसे ही उन्होंने कैश वाले पार्सल को खोला तो उनके हो-श उड़ गए। क्योंकि जो चीज उनके सामने थी वो है-रान करने वाली थी बड़ा होकर पायलट बनूँगा बचपन में टीचर से बच्चे ने किया था वादा,30 साल बाद उसी फ्लाइट में हुआ सपना पूरा

आपकी जानकारी के लिये बता दें कि उस बक्से में ना तो किताबें थी और ना ही कोई प्रेजेंट। उसमे थे करारे नोट। जो करीब डेढ़ करोड़ रुपए थे। इस कैश के साथ प्रोफेसर को एक नोट भी मिला था। जिसमे उस कैश के बारे में जानकारी लिखी थी। जानकारी के लिये बताते चले ये बक्सा विनोद मेनन के किसी पुराने स्टूडेंट ने भेजा था। स्टूडेंट न्यूयार्क के ही कॉलेज में पढ़ा था औऱ उसने भौतिकी में स्नातक करने के बाद पीएचडी स्कॉलर ली थी। फिजिक्स में डबल पीएचडी करने के बाद इस समय वह स्टूडेंट एक प्रतिष्ठित जगह में काम कर रहा था। लिहाजा उसने प्रोफेसर को अच्छी शिक्षा देने के लिए उपहार स्वरूप ये पैसे भेजे थे। नोट में उसने लिखा था कि वो इन पैसों की मदद से संस्थान में पढ़ाई करने वाले बच्चों की सहायता करें ताकि किसी की तालीम ना रुके। इस जानकारी के संबंध में आप लोगों की क्या प्रतिक्रियायें है। मित्रो अधिक रोचक बाते व लेटेस्‍ट न्‍यूज के लिये आप हमारे पेज से जुड़े और अपने दोस्तो को भी इस पेज से जुड़ने के लिये भी प्रेरित करें।

About Rinku

Leave a Reply

Your email address will not be published.