साल 2022 का दूसरा सूर्य ग्रहण, 4 राशियों के लिए होगा शुभ होगी धन की वर्षा मिलेगा मान सम्मान - onlyentertainmentnews
Breaking News
Home / विशेष / साल 2022 का दूसरा सूर्य ग्रहण, 4 राशियों के लिए होगा शुभ होगी धन की वर्षा मिलेगा मान सम्मान

साल 2022 का दूसरा सूर्य ग्रहण, 4 राशियों के लिए होगा शुभ होगी धन की वर्षा मिलेगा मान सम्मान

दोस्तों सूर्यग्रहण एक प्रकार से भौगोलिक प्रक्रिया होती है जिसका धार्मिक और वैज्ञानिक दोनों प्रकार से महत्व है . इसीप्रकार से जब भी सूर्य या चन्द्र ग्रहण होता है उसका असर कुछ राशियों पर शुभ और कुछ राशियों पर अशुभ हालाकि दोनों प्रकार का प्रभाव देखने को मिलता है. और दीपावली के अगले दिन 25 अक्टूबर 2022 को साल का दूसरा सूर्य ग्रहण लगने वाला है. जानकारी के मुताबिक आप सभी को बता दे की यह  आंशिक सूर्य ग्रहण होगा और इसका शुभ असर 4 राशियों पर देखने को मिलेगा जिससे इन जातको का सोया हुआ भाग्य भी जग उठेगा तो आइये जानते है कि वो कौन-कौन सी राशिया है जिसमे सूर्यग्रहण पड़ने से उन राशियों का सोया हुआ भाग्य जग उठेगा. जानने के लिए बने रहे लेख के अंत तक.

त्रियोदशी 23 अक्तूबर की शाम 6 बजाकर 03 मिनट तक होने के कारण धनतेरस का पूजन 23 अक्तूबर को ही किया जाएगा। जबकि, कार्तिक कृष्ण अमावस्या को वर्ष का दूसरा व अंतिम सूर्य ग्रहण तथा कार्तिक पूर्णिमा को अंतिम खग्रास चंद्र ग्रहण लग रहा है। इन दोनों ग्रहण का दर्शन व प्रभाव भारत में होगा। दीपावली के अगले दिन 25 अक्टूबर मंगलवार को सूर्य ग्रहण स्वाति नक्षत्र व तुला राशि में लगेगा।इस बार दीपावली को लेकर अभी तक लोगों में संशय बना हुआ है परंतु पंडितों के अनुसार, दीवाली 24अक्टूबर की मनाई जाएगी। पंडित उमेश सैनरा ने बताया कि 23 अक्टूबर को त्रियोदशी शाम के 6 बजकर 03 मिनट तक है। जिसके चलते धनतेरस की पूजा और छोटी दीवाली 23 अक्टूबर को ही मनाई जाएगी। पंडित रमाशंकर तिवारी गढ़मुक्तेश्वर ने बताया कि 23 अक्टूबर की शाम को 6.03 बजे से चतुर्दशी आ रही है, जिस कारण शाम 24 की शाम को अमावस्या आ जाएगी। इसलिए 24 अक्टूबर की रात को अमावस्या की रात हैं, जिस लिए 24 को ही दीवाली मनाई जाएगी।

25 अक्टूबर को होगा सूर्य ग्रहण :-

25 अक्टूबर को अमावस्या हैं और सूर्य ग्रहण हैं। इसलिए यह साल का अंतिम सूर्य ग्रहण होगा। सूर्य ग्रहण का सूतक 12 घंटा पूर्व आरंभ सुबह 6: 03 बजे शुरू हो जाएगा। सनातन धर्म में ग्रहण का खास महत्व है।

गंगा स्नान, दान, जाप, पाठ आदि करें :-

ग्रहण के दौरान गंगा स्नान, दान, जाप, पाठ आदि किया जाता है। ग्रहण से देश, प्रदेश के साथ आमजन भी प्रभावित होंगे। गर्भवती महिला और रोगी को छोडकर किसी को भी कुछ खाना पीना नहीं चाहिए जबकि गर्भवती को चाकू नहीं चलाना चाहिए। शयन आदि से बचकर पल्लू में गेरु रखे, ईश्वर की पूजा करे। भारद्वाज पंचांग के अनुसार सूर्य ग्रहण शाम 4.23 बजे से आरंभ होकर 6.19 बजे तक रहेगा। वहीं दूसरे पंचांग के अनुसार सूर्य ग्रहण शाम 4.42 बजे से 5.08 बजे तक रहेगा। चंद्र ग्रहण 8 नवंबर को खंडग्रास के रुप में दिखाई देगा, दोपहर 2 बजकर 39 मिनट से शुरू होकर शाम को 6 बजकर 19 मिनट रहेगा। पूर्वकाल रहेगा 3 घंटे 40 मिनट

मेष, सिंह, कन्या, तुला और वृश्चिक राशि के लिए शुभ :-

ज्योतिषाचार्य राजीव सचदेवा के अनुसार सूर्य ग्रहण का शुभ प्रभाव मेष, सिंह, कन्या, तुला और वृश्चिक राशि वाले लोगों पर पड़ेगा। इन राशि वालों को आर्थिक लाभ, मान सम्मान में वृद्धि समेत अन्य कार्यो में सफलता मिलेगी। वहीं चंद्र ग्रहण का शुभ प्रभाव मिथुन, कर्क, कुंभ राशि वालों पर पड़ेगा। शेष राशि वालों को हानि, स्त्री पीड़ा, व्यथा आदि परेशानी का सामना करना होगा।

About savita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *