एक जमाने मे जूते खरीदने के भी नही थे पैसे,आज सफलता की ऊंचाइयों पर है ये 5 क्रिकेटर - onlyentertainmentnews
Breaking News
Home / क्रिकेट / एक जमाने मे जूते खरीदने के भी नही थे पैसे,आज सफलता की ऊंचाइयों पर है ये 5 क्रिकेटर

एक जमाने मे जूते खरीदने के भी नही थे पैसे,आज सफलता की ऊंचाइयों पर है ये 5 क्रिकेटर

मित्रो इसमें तो कोई दो राय नही है कि दुनिया में कब किसकी किस्‍मत चमक जाये, इसका कोई पता नही है। वैसे तो बॉलीवुड इंडस्ट्री या खेल की दुनिया दोनों में कईओ ने अपनी किस्मत अजमाई है, पर उनमें कामयाबी कुछ ही लोगों को मिल पाती है। आज हम पांच ऐसे ही खिलाड़ियों के संबंध में बात करने जा रहे है, जिनका बचपन काफी गरीबी में बीता है। आपकी जानकारी के लिये बता दें कि भारतीय क्रिकेट टीम में 5 खिलाड़ी ऐसे भी हैं, जिनका जीवन काफी संघर्षोमय रहा है। जिन खिलाड़ियों की बात कर रहे है वो खिलाड़ी कुछ इस प्रकार से है….वर्षो बाद साक्षी ने बताया सच, क्रिकेटर के साथ शादी करके ज़िन्दगी का हो जाता है ये हाल

एमएस धोनी : एमएस धोनी को कौन नहीं जानता। न केवल भारत में बल्कि अन्य देशों में भी उनकी लोकप्रियता बहुत अधिक है। एमएस भी अपने जीवन में काफी कठिनाइयों और संघर्षों से गुजरा है। आपने उनकी बायोपिक ‘एमएस धोनी’ तो देखी ही होगी, उनके पिता पिच क्यूरेटर थे और एमएस टिकट कलेक्टर के रूप में भी काम करते थे। उन्हें अपने जीवन में इतनी सफलता मिली है, कि उन्होंने इतना संघर्ष किया है।

उमेश यादव : उमेश के पिता एक कोयला कारखाने में काम करते थे। उनके पिता ने परिवार को सही भोजन उपलब्ध कराने के लिए कड़ी मेहनत की। उसके परिवार को दो वक्त का खाना खाने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ती है। उमेश ने आज अपने संघर्षों और मुश्किलों से कामयाबी हासिल की है11 क्रिकेटर जिन्होंने ले लिया है तलाक,दूसरे को तो दोस्त ने ही दिया था धोखा

हरभजन सिंह : हरभजन सिंह ने भारतीय क्रिकेट टीम में अपना नाम बनाया है और उनकी लोकप्रियता काफी ज्यादा है। हालांकि, हरभजन बचपन में गरीबी में रहे और अपनी खराब आर्थिक स्थिति के कारण उन्होंने ट्रक ड्राइवर बनने का फैसला किया। हालांकि, अपनी कड़ी मेहनत और संघर्ष के कारण वह भारतीय क्रिकेट टीम के लिए खेलने में सफल रहे।

रवींद्र जडेजा : रवींद्र जडेजा को आप सभी अच्छी तरह से जानते हैं। भारतीय क्रिकेट टीम में रवींद्र की बड़ी भूमिका है और उनकी लोकप्रियता भी काफी ज्यादा है। क्या आप जानते हैं कि रवींद्र का बचपन गरीबी में बीता। उसके पिता एक सिक्युरिटी गार्ड थे और उसकी माँ एक नर्स थी। वह सरकारी क्वार्टर में रहते  था। उन्होंने अपने जीवन में कई कठिनाइयों और संघर्षों के माध्यम से सफलता हासिल की है।

भुवनेश्वर कुमार : उत्तर प्रदेश के एक गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार ने एक साक्षात्कार में अपने संघर्ष का खुलासा किया। एक समय उनके पास क्रिकेट खेलने के लिए अच्छे जूते नहीं थे। उनका बचपन गरीबी में बीता। लेकिन अब उन्होंने दुनिया भर में अपना नाम बना लिया है।

उपरोक्त जानकारी के संबंध में आप लोगों की क्या प्रतिक्रियायें है। मित्रो अधिक रोचक बाते व लेटेस्‍ट न्‍यूज के लिये आप हमारे पेज से जुड़े और अपने दोस्तो को भी इस पेज से जुड़ने के लिये भी प्रेरित करें।

About Rinku

Leave a Reply

Your email address will not be published.