आम पंडितों से ख़ास होता है कश्मीरी पंडितों का भोजन, खाने में शामिल होती है ये लाजवाब डिशेज - onlyentertainmentnews
Breaking News
Home / ताज़ा खबरें / आम पंडितों से ख़ास होता है कश्मीरी पंडितों का भोजन, खाने में शामिल होती है ये लाजवाब डिशेज

आम पंडितों से ख़ास होता है कश्मीरी पंडितों का भोजन, खाने में शामिल होती है ये लाजवाब डिशेज

दोस्तो वैसे तो हर राज्य हर जिले का भोजन अलग होता है भोजन में सामग्री चाहे एक जैसी हो लेकिन बनाने के तरीका और स्वाद अलग होता है ।जैसा कि सभी को मालूम है इन दिन द कश्मीरी फाइल्स काफी सुर्खियों में फिर चाहे अपनी सफलता की वजह से या फिर विवादो की वजह से । कश्मीरी पंडितो पर हुए अत्याचारों को बया करने वाली इस फिल्म के आने के बाद रोजाना कश्मीरी पंडितो के बारे में नई खबर सुनने को मिलती है ।आज हम भी आपको कश्मीरी पंडितों के खानपान से जुड़ी जानकारी देने वाले है । बता दे कश्मीरी पंडितो का भोजन आम पंडितो के भोजन से अलग होता है इनके भोजन में दम आलू, कोफ्ता , रोगन जोश,मैथी चमन,चावल और खट्टी तरकारी जैसे और बहुत सारे व्यंजन शामिल है । कश्मीरी व्यंजन अपने नामो की तरह खाने में भी बहुत लाजवाब होते है । कश्मीरी पंडितो के खानपान के बारे में जानकारी हासिल करने के लिए लेख को अंत तक पढ़े ।

कश्मीरी पंडित जम्मू और कश्मीर राज्य के सबसे पुराने निवासी हैं। हालांकि, अब ये कश्मीरी पंडित पूरे देश में रहते हैं। इन कश्मीरी हिंदुओं की अपनी विशिष्ट जातीय संस्कृति है। यह उनकी जीवन शैली और भोजन को परिभाषित करता है। कश्मीरी पंडितों का खाना बेहद लजवाब होता है और इसमें शाकाहारी और मांसाहारी दोनों तरह के व्यंजन शामिल होते हैं। कश्मीरी मुसलमानों से अलग वे आमतौर पर अंडा, चिकन, लहसुन, प्याज और टमाटर का उपयोग नहीं करते हैं।

कश्मीरी पंडितों ने भारतीय व्यंजनों में दही, हींग और हल्दी पाउडर के इस्तेमाल की शुरुआत की। इसके अलावा शाकाहारी व्यंजनों में पनीर के साथ कई तरह के करी व्यंजन और कई तरह की सब्जियां शामिल हैं। ऑबर्जिन, आलू, कमल का तना, पालक, शलजम और राजमा कुछ ऐसी सब्जियां हैं जिनका उपयोग कश्मीर पंडित किया करते हैं।इसके साथ ही कश्मीर पंडितों के मेन्यू में दम आलू, नादिर पालक (कमल के तने और पालक का मिश्रण), राजमा-चावल, वेथ त्समान (एक पनीर की सब्जी), त्सोएक वैनगन (खट्टा, तीखा और मसालेदार बैंगन) शामिल है।

वहीं, मांसाहारी कश्मीरी पंडित का खाना मुस्लिम लोगों के समान है। लेकिन, दही के ज्यादा इस्तेमाल की वजह से इसका स्वाद अलग होता है। साथ ही इसमें प्याज, लहसुन और अंडे का उपयोग नहीं किया जाता है। मांसाहारी व्यंजन बनाने में ज्यादातर मटन और मछली का इस्तेमाल किया जाता है। मांस को पहले दही में मैरीनेट किया जाता है और इसे नरम बनाने के लिए धीमी आंच पर लंबे समय तक पकाया जाता है।

कश्मीरी पंडितों को कुछ लोकप्रिय मांसाहारी व्यंजनों में मेथी कीमा (मेथी के साथ मिश्रित कीमा बनाया हुआ मटन), कबरगाह (मेमने की तली हुई पसलियां), रोगन जोश (दही और मसालों के साथ मेमने की सब्जी), त्सोएक ज़ारवन (मिश्रित मसालों के साथ स्वादिष्ट रूप से पकाए गए भेड़ के बच्चे का गुर्दा या जिगर), स्यून आलू (मसालेदार आलू और मांस की सब्जी) शामिल है।

चावल और गेहूं एक कश्मीरी पंडित परिवार का मुख्य आहार है। सरवरी और बजबट्टा चावल से बनने वाले व्यंजन हैं। खमेरी पुरी कश्मीरी पंडितों के व्यंजनों में गेहूं से बनी लोकप्रिय रोटी है।

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.